ऐसा माना जाता है कि भारत की सबसे बड़ी संकर बीज कम्पनी के रूप में स्वीकृत (भारतीय किसानों को संकर बीज की बिक्री के संदर्भ में) नुजिवीडू सीड्स लाखों किसानों के लिए बेहतरीन संकर एवं अनेक प्रजाति के बीजों का विकास करके एवं उनकी आपूर्ति करके भारतीय कृषि में एक महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा की है। नुजिवीडू सीड्स जिसे आरंभ में एनएसएल ग्रूप के एक भाग के रूप में स्थापित किया गया था, जिसने भारतीय किसानों का चार दशकों से निरंतर सेवा मुहैया कराया है। कम्पंनी 17 राज्यों में हैं और देशभर में 5.5 मिलियन से अधिक किसानों को लगभग 350 प्रकार के बीज उत्पाद की बिक्री और बीज से संबंधित संशयों का निराकरण करती है। *

उत्पत्ती एवं विकास

एनएसएल ग्रूप की स्था‍पना स्‍वप्‍नदर्शी, उद्यमी, श्री मानदेव वेंकटरमैया ने की जिसने 1971 में कृषि क्षेत्र के अवसर और भारतीय कपास उत्पा‍द बाजार में संकर कपास के बीजों के महत्व को समझा। कपास बीज तकनीक में अपने गहरे विश्वास एवं कपास के किसानों को संकर बीज उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रेरित होकर कृषि विज्ञान में स्नातकोत्तर एवं आंध्र प्रदेश के नुजिवीडू शहर के परिश्रमी किसान, श्री वेंकटरमैया ने 1973 में एनएसएल ग्रूप के बीज व्यवसाय की नींव रखी।

एनएसएल ग्रूप का बीज व्यवसाय जिसका निर्माण शौक के तौर पर किया गया था, जो बाद में उनके बेटे श्री एम प्रभाकर राव ने बदल दिया, जिसे 1982 में एनएसएल ग्रूप के बीज व्‍यवसाय का उत्‍तराधिकार प्राप्त हुआ। उनके सक्रिय नेतृत्व में नुजिवीडू सीड्स ने भारत में सबसे बड़ी संकर बीज कम्‍पनी बनIकर नई उच्‍चाइयों को छुआ (2009-10 में बेचे गए बीटी कपास बीज के पैकेटों की संख्या के संदर्भ में)। आज कम्पनी देश में कपास क्रांति लाने के लिए व्‍यापक रूप से जानी जाती है। देश के कुल कपास उत्पादन का लगभग आधा (40-45%) * *

कपास नुजिवीडू सीड्स द्वारा विकसित है (स्रोत:www.businessreviewindia.in/magazine & www.foodanddrinkdigital.com/magazines)।

नुजिवीडू सीड्स खेत फसल जैसे धान, मकई, ज्वार, बाजरा, सूर्यमुखी और शब्जी फसल के बीजों के महत्वापूर्ण उत्पादक एवं प्रसंस्‍करणकर्ता के रूप में भी उभर रहा है।

नुजिवीडू सीड्स से संबंधित महत्व पूर्ण तथ्य
  • बीज व्यडवसाय 1973 में स्थापित
  • नुजिवीसीड्स भारत की सबसे बड़ी संकर बीज कम्पनी है (2009-10 में बेचे गए बीटी कपास बीज के पैकेटों की संख्या के संदर्भ में)।* * *
  • नुजिवीडू सीड्स कपास के संकर बीज और धान बीज के अनुसंधान में बाजार में अग्रणी है।
  • ब्लैकस्टोन जीपीवी कैपिटल पार्टनर्स मारिसस वी-सी लिमिटेड ने नुजिवीडू सीड्स में 2010 में निवेश किया।
  • प्रभात ऐग्री बायोटेक लिमिटेड, प्रवर्धन सीड्स प्राइवेट लिमिटेड और यागन्ती सीड्स प्राइवेट लिमिटेड को क्रमश: 2011, 2009, 2008 में अधिग्रहण हुआ।
  • देश में कपास से सबसे अधिक उत्‍पादन होने का नुजिवीडू सीड्स को गौरव प्राप्‍त है।
  • लक्ष्य
    • भारत में सबसे लोकप्रिय सीड ब्रांड होना
    • अपने महत्वपूर्ण प्रतिस्पंर्धा को सुदृढ बनाने के लिए बायोटेक अनुप्रयोग का अंगीकरण।
    उद्देश्य
    उत्‍पादित सभी बीजों में अपेक्षित गुणवत्ता सुनिश्चित करना एवं 100% संतुष्ट ग्राहक

    हमारा व्यमवसाय दर्शन
    • किसानों की आवश्यकताओं के अनुरूप सर्वोत्तम संकर का विकास
    • सभी उत्पादों में गुणवत्ता मानक बनाए रखना एवं सुधार लाना।
    • बाजार में निरंतर एवं समयबद्ध आपूर्ति सुनिश्चित करना
    • उत्पादकों, व्यापार, आपूर्तिकर्ताओं और किसानों में सौहार्द्रपूर्ण संबंध बनाना।
    • कर्मचारियों के विकास एवं समृद्धि के लिए कार्य कुशलता तैयार करना।
    • कर्मचारियों में कम्पनी की अवधारणा और महत्व को समझाना हैं